Monday, October 3, 2022

मक्का (Maize) की खेती,उन्नत किस्में, रोग प्रबंधन, खरपतवारनाशक तथा उत्पादन की पूरी जानकारी

spot_imgspot_imgspot_imgspot_img

मक्का की खेती

खाद्यान्न फसलों में मक्का सबसे अधिक उपज देने वाला फसल है । मक्का का उपयोग खाद्यान्न , पशु आहार, औद्योगिक महत्व की अनेक वस्तुओं को बनाने में तथा हरा चारा के रूप में किया जाता है। मक्का के विभिन्न खाद्यान्न किस्मों में पॉप कार्न, स्वीट कॉर्न, बेबी कॉर्न, आदि का बाजार बढ़ा है । मक्का की अच्छी गुणवत्ता वाली किस्मों के आ जाने से अब मक्का न सिर्फ अधिक उपज देने वाली फसल है, बल्कि पौष्टिक आहार देने वाला भी फसल है । आर्थिक महत्व तथा जलवायु परिवर्तन के युग में मक्का भविष्य का फसल है ।


उद्भव एवं विकास

मक्का का वैज्ञानिक नाम Zea mays है.  मक्का का उद्भव मध्य अमेरिका तथा मैक्सिको माना जाता है। भारत में मक्का सोलहवीं सदी में पुर्तगालियों द्वारा लाया गया । तभी से इसकी खेती हमारे पूरे भारत मे होनी लगी।


जलवायु

मक्का मूलतः गर्म मौसम का पौधा है अंकुर के समय 21 ° से° तथा वृद्धि के समय 32 ° से° तापमान उपयुक्त पाया गया है । नरमंजरियाँ निकलते समय अधिक तापमान तथा कम नमी का होना हानिप्रद है। मक्का के पकने की अवस्था को छोड़कर शेष सभी अवस्थाओं में तापमान 25 ° से° के आस-पास होना चाहिए । पकते समय गर्म तथा शुष्क वातावरण ठीक होता है ।

ये भी पढे !


मिट्टी

मक्का की खेती के लिए अच्छी जल निकासी वाली उपजाऊ बलुई दोमट से दोमट मिट्टी जिसमें जैवांश प्रचुर मात्रा में हो तथा पी ० एच ० मान 5.5-7.5 उपयुक्त माना जाता है । मक्का जल – जमाव के प्रति संवेदनशील है ।


 खेत की तैयारी

मक्के की बुआई के लिये एक-दो गहरी जुताई करके पाटा चला देना चाहिए, जिससे की खेत ढेले रहित एवं मिट्टी भुरभुरी हो जाय । बुआई से पहले 10-15 टन प्रति हेक्टेयर गोबर की सड़ी खाद या वर्मी कम्पोस्ट का व्यवहार करे ।


बीज दर

20 कि ० ग्रा प्रति हेक्टेयर


बीजोपचार

बुआई से पूर्व बीज को फफूंदनाशक दवा कैप्टान, थीरम या वैविस्टीन 2.0-2.5 ग्राम प्रति कि° ग्रा° बीज की दर से अवश्य उपचारित कर लेना चाहिए ।


बुआई की विधि

S.N फसल मौसम पंक्ति x पौध ( से ° मी° ) बोने की गहराई ( से° मी° )
1. खरीफ फसल 60 X 20 3-5
2.   रबी फसल 60 X 25 4-5
3. बसंत एवं जायद 60 X 20 3-5

सिंचाई तथा जल प्रबंधन

मक्का रबी एवं गरमा में 5 से 6 सिंचाई की आवश्यकता पड़ती है । खरीफ में सिंचाई की आवश्यकता प्रायः नहीं पड़ती है बल्कि जल निकासी का प्रबंधन अत्यन्त आवश्यक है । सूखे की स्थिति में दानों में दूध बनते समय नमी के लिए सिंचाई अवश्य करना चाहिए । मोचा निकलने से दाना बनने तक खेत में पर्याप्त नमी का रहना अत्यन्त आवश्यक है ।

ये भी पढे !


निकाई-गुड़ाई एवं खरपतवार प्रबंधन

मक्का की बुआई के दूसरे दिन ही जमीन की सतह पर समान रूप से खरपतवारनाशी दवा एट्राजीन 50 प्रतिशत 1.5 कि ० ग्र ० सक्रिय तत्व ( 3.0 किग्रा ० दावा ) को 600-700 ली ० पानी में घोलकर प्रति हेक्टर की दर से छिडकाव करें । इस खरपतवारनाशी का छिड़काव बुआई के 25-30 दिनों बाद भी रबी मक्के में किया जा सकता है । जिस खेत में तृणनाशक दवा का छिड़काव नहीं किया गया हो उस खेत में मक्का के कतारों के बीच खुरपी से निकौनी कर तथा नेत्रजन का प्रथम उपरिवेशन कर मिट्टी चढ़ा देना चाहिए ।


कीट एवं व्याधि प्रबंधन

S.N रोग के नाम रोग के कारकों के नाम लक्षण  प्रबंधन
1. पत्ती लपेटक ( Leaf roller ) मेरास्मिया ट्रेपेजेलिस ( Marasmia trapezales ) कीट के शिशु पत्तियों के ऊपरी सतह को खुरचकर खाता है | फिर उसको मोड़ना शुरू कर देता है । खाई हुई पत्तियाँ सफेद हो जाती है| मुड़ी हुई पत्तियों को इकट्ठा करके नष्ट कर देना चाहिए ।
2.

कंडवा रोग

(Smut of Maize )

अस्टिलागों मेडिस (Ustilago maydis)

पौधों को आक्रांत भाग पर पिटिका (गौल ) बनते है  उग्रावस्था मे आक्रांत भुट्टे से काला बीजान चूर्ण निकलते है |

फसल चक्रण आपनाना चाहिए | आक्रांत पौधों को हटाना चाहिए |

मक्का के साथ मिश्रित खेती

रबी :- मक्का + आलू , मक्का + मूली , मक्का + मटर , मक्का +राजमा

खरीफ :- मक्का + झिगनी , मक्का + उड़द, मक्का + लोबिया , मक्का + अरहर


कटाई

रबी मौसम में मोचा निकाले के 50 से 55 दिनों एवं खरीफ और जायद में 30 -40 दिनों बाद भुट्टे परिपक्व हो जाने पर कटनी करना चाहिए ।

मक्का
मक्का की फोटो

क्वालिटी प्रोटीन मक्का

खाद्यान्न फसलों में मक्का की विशेषता यह है कि इसकी खेती सभी मौसमों में की जा सकती है तथा इसकी उपज क्षमता सबसे अधिक है । मक्का में उच्च कोटि के प्रोटीन की कमी के कारन इसे पोषक के दृष्टिकोन से कमजोर आहार माना जाता रहा है । परन्तु क्वालिटि प्रोटीन मक्का को किस्मों के जाने से मक्का खाद्यान्न तथा पोषन के दृष्टिकोन से एक महत्वपूर्ण फसल हो गया है ।

ये भी पढे !


तो दोस्तों मुझे आशा है कि आपको मक्का की खेती से जुड़ी जानकारी पसंद आयी होगी इस पोस्ट मे मक्का की खेती कैसे करें इसकी पूरी जानकारी दि गई है। अगर आपको इस पोस्ट से संबंधित कोई भीं सवाल हो तो आप हमसे कमेंट सेक्शन में पूछ सकते है।

तो दोस्तों मुझे आशा है कि आपको हमारा यह पोस्ट पसंद आया होगा, अगर आपको पसंद आया है तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। और उन तक भी मक्का की खेती की जानकारी पहुँचाए।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

  • Connect with us
- Advertisement -
error: Content is protected !! Do\'nt Copy !!