जानें, कुछ आलू की किस्मों की विशेषताएं और उपज के बारें मे। 

कुफरी चिप्सोना-3

यह आलू की किस्म चिप्स, फेरेंच फ्राई, फ्लेक्स आदि बनाने के लिए उपयुक्त है, इसका कंद का आकार अंडाकार एवं रंग सफेद क्रीमी होता है एवं इसका गुदा सफेद होता है. इसकी फसल 110 से 120 दिनों मे तैयार हो जाती है। इसकी भंडारण क्षमता अच्छी होती है. यह आलू की किस्म पछेती झुलसा रोग प्रतिरोधी है, यह किस्म प्रति हेक्टेयर 30 से 35 टन तक की पैदावार देती हैं।

कूफरी लालिमा

इसकी कंद का आकार अंडाकार एवं गुदा क्रीमी होता है, यह किस्म प्रति हेक्टेयर 20 से 25 टन तक की पैदावार देती है. इसकी भंडारण क्षमता अच्छी होती है। 

कूफरी सूर्या

यह आलू की अगेती किस्म है, इसकी कंद का आकार लंबा अंडाकार एवं कंद का रंग पीला एवं गुदा भी पीला होता है इसकी फसल 70 से 90 दिनों मे तैयार हो जाती है यह किस्म प्रति हेक्टेयर 25 से 30 टन तक की पैदावार देती है। 

कूफरी नीलकंठ

यह आलू की मध्य अवधि वाली किस्म है, इसकी कंद का आकार अंडाकार एवं उथली आँखे और गुदा पीला होता है, यह किस्म प्रति हेक्टेयर 30 से 40 टन तक की पैदावार देती है. इसकी भंडारण क्षमता अच्छी होती है। 

कूफरी सदाबहार 

यह आलू की मध्यम अवधि वाली किस्म है, इसका कंद सफेद आकर्षक एवं अंडाकार होता है. इसकी फसल 80 से 90 दिनों मे तैयार हो जाती है। इस किस्म की खास बात यह है कि इसमे कंद बनने की प्रक्रिया जल्दी शुरू होती है इसकी भंडारण क्षमता अच्छी होती है यह किस्म प्रति हेक्टेयर 30 से 35 टन तक की पैदावार देती हैं।

कूफरी ख्याति

यह आलू की अगेती मध्य अवधि वाली किस्म है, यह किस्म करीब 70 से 90 दिनों मे तैयार हो जाता है, यह किस्म प्रति हेक्टेयर 25 से 30 टन तक की पैदावार देती है. यह आलू की किस्म अगेती एवं पछेती झुलसा के प्रतिरोधी है इसकी भंडारण क्षमता अच्छी होती है।

कुफरी चिप्सोना-4

यह आलू की किस्म चिप्स, फेरेंच फ्राई, फ्लेक्स आदि बनाने के लिए उपयुक्त है, इसका कंद का आकार गोल अंडाकार एवं रंग सफेद क्रीमी होता है एवं इसका गुदा सफेद होता है. इसकी फसल 100 से 110 दिनों मे तैयार हो जाती है। यह किस्म कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, मध्यप्रदेश एवं गुजरात के लिए उपयुक्त है।

कूफरी मोहन

यह आलू की मध्यम अवधि वाली किस्म है, इसकी फसल 90 से 100 दिनों मे तैयार हो जाती है। इसका कंद का आकार अंडाकार एवं रंग सफेद होता है एवं इसका गुदा सफेद होता है. इसकी भंडारण क्षमता अच्छी होती है यह किस्म प्रति हेक्टेयर 35 से 40 टन तक की पैदावार देती हैं।

और आलू एवं आलू के किस्मों विशेषता एवं उपज के बारे मे जानने के लिए नीचे क्लिक करें।

Medium Brush Stroke

Click here