मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना  क्या हैं, जानें

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना कि शुरुआत 19 फरवरी 2015 मे की गई। 

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना की शुरुआत केंद्र सरकार ने शुरू की और इस योजना की थीम ‘स्वस्थ धरा, खेत हरा’ है।

इस योजना की शुरुआत किसानों की मिट्टी की जाँच करके मिट्टी की गुणवत्ता का अध्ययन करके एक मृदा स्वास्थ्य कार्ड जारी की जाती है। 

इस योजना की मदद से किसानों की खेत की मृदा में कौन-कौन से पोषक तत्वों की कमी आयी है, इसकी जांच कर एक रिपोर्ट कार्ड तैयार किया जाता है। जिसे हमलोग मृदा स्वास्थ्य कार्ड के नाम से जानते है।

यह रिपोर्ट कार्ड किसान को दिया जाता है, जिसके अनुसार किसान अपनी मिट्टी की उर्वरकता बढ़ाने हेतु सही खाद उचित मात्रा में इस्तेमाल करते है। इससे उनकी खेत की मिट्टी के स्वास्थ्य और उर्वरता मे सुधार आती है, जोकि उसकी फसल पैदावार के लिहाज से काफी अच्छा है।

इस मृदा स्वास्थ्य कार्ड में मिट्टी के पोषक तत्व से सम्बंधित हर जानकारी रहती है।

खेत की मिट्टी की गुणवत्ता अच्छी फसल उत्पादन के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होती है।

इस योजना के आ जाने से किसान ये जान पायेगे की उनकी खेत की मिट्टी मे कौन-कौन से पोषक तत्वों की कमी है और कौन सी पोषक तत्व उनकी मिट्टी मे उपलब्ध है।

मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना के बारें मे और अधिक जानने के लिए नीचे क्लिक करें।

Medium Brush Stroke